Friday, November 19, 2010

कुछ हाइकु


                                             










              



  टूटा रे बाँध 

 कगार बंध  टूटे

निर्झर फ़ूटे









   खिली रे कली     
                      
सुर्ख़-शोख़ रंग की 


   महकी गली।



                                                             





        फ़ूटे अंकुर
मन-मधुबन में 
तू जीवन में ।
 

3 comments:

सहज साहित्य said...

हाइकु में जो माधुर्य होना चाहिए , कमला निखुर्पा के हाइकुओं में वह आदर्श रूप देखने को मिलता है । इनके हाइकुओं का भाव-माधुर्य बेजोड़ है । हार्दिक बधाई !

निर्मला कपिला said...

बहुत उमदा हाईकु। बधाई।

डॉ. हरदीप संधु said...

बहुत ही सुन्दर भाव !
बधाई !